योग का महत्व

Benefits of Yoga

 

योग का महत्व

 

शरीर और मन का संतुलन है योग । भारतीय धर्म और दर्शन में योग का अत्यधिक् महत्व है । भारतीय योग जानकारों की अनुसार योग की उत्पत्ति भारत में लगभग 5000 वर्ष से भी पहले हुई थी I आध्यात्मिक उन्नति या शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए की योग की आवश्यकता वा महत्व को प्रायः सभी दर्शनों एवं भारतीय धार्मिक सम्प्रदायों ने एकमत व मुक्तकंठ से स्वीकार किया है ।

 

योग शब्द को दो अर्थ है और दोनों ही महत्वपूर्ण है । पहला है जोड़ और दूसरा है समाधी । जब तक हम स्वयं से नहीं जुड़ते , समाधी तक पहुँचना कठिन होगा । आधुनिक युग  में  योग का महत्व बढ़ गया है । इसके बढ़ने का  कारण व्यस्तता और मन की व्याग्रता है ।आधुनिक मनुष्य को आज योग की ज्यादा आवश्यकता है, जब की मन और शारीर आधुनिक तनाव, वायु प्रदूषण तथा भागमभग के जीवन से रोगग्रस्त हो चला है ।

 

योगासन का लाभ

 

  • योगासन से भीतरी ग्रंथिया अपना काम अच्छी तरह कर सकती है और युवावस्त बनाए रखने एवं वीर्य रक्षा में सहायक होती है ।
  • योगासनो द्वारा पेट की भली  – भांति सुचारु रूप से सफाई होती है और पाचन अंग पुष्ट होते है I
  • योगासन परियो को शक्ति प्रधान करते है । इससे मोटापा घटता है और दुर्बल – पतला व्यक्ति तंदरुस्त होते है ।
  • योगासन स्त्रियों की शारीर रचना के लिए विशेष अनुकूल है । वे उनमे सुन्दरता, सम्यक – विकास सुघड़ता और गति, सौन्दर्य आदि के गुण उत्पन्न करती है ।
  • योगासन से बुद्दि की वृद्दि होती है और धारणा शक्ति को नई स्फूर्ति एवं ताजगी मिलती है । ऊपर उठने वाली प्रवृत्तियां जागृत होती है और आत्मा – सुधार के प्रयत्न बढ़ जाते है ।
  • योगासन स्त्रियों और पुरुषों को संयमी एवं आहार – विहार में माध्यम मार्ग का अनुकरण करने वाला बनाते हैं, अतः मन और शारीर को स्थाई तथा संपूर्ण स्वास्थ्य, मिलता हैं ।
  • योगासन श्वास – क्रिया का नियमन करते हैं , ह्रदय और फेफड़ों को बल देते हैं, रक्त का शुद्ध करते हैं मन में स्थिरता पैदा कर संकल्प शक्ति का बढ़ाते हैं ।
  • आसान रोग विकारों को नष्ट करते हैं, रोगों से रक्षा करते हैं, शारीर का  निरोग, स्वस्थ एवं बलिष्ठ बनाए रखते हैं।
  • आसनों से नेत्रों की ज्योति बढ़ती हैं । आसनों का निरन्तर अभ्यास करने वाले को चरमें की आवश्यकता समाप्त हो जाती है ।
shareShare on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *